बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ: एक सकारात्मक परिवर्तन की ओर कदम

            

                बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ भारत सरकार द्वारा चलाई गई एक महत्वपूर्ण राष्ट्रीय योजना है, जो लड़कियों के अधिकारों की सुरक्षा करती है और उन्हें शिक्षित बनाने के लिए प्रोत्साहित करती है। इस योजना के माध्यम से, सरकार ने समाज में लड़कियों के साथ अनुचित भेदभाव के खिलाफ लड़ाई की है और उन्हें समानता का माहौल प्रदान करने का प्रयास किया है। इस लेख में, हम बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेंगे।

 बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना क्या है?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना भारत सरकार द्वारा 22 जनवरी, 2015 में शुरू की गई एक सकारात्मक राष्ट्रीय योजना है जो लड़कियों के अधिकारों की सुरक्षा करती है और उन्हें शिक्षित बनाने के लिए प्रोत्साहित करती है। इस योजना के अंतर्गत, सरकार ने लड़कियों के पास विभिन्न विकल्प और अवसर प्रदान किए हैं जिनसे वे अपने जीवन को सकारात्मक रूप से विकसित कर सकती हैं।

बेटी के खाता खुलवाने से लेकर उसकी 14 वर्ष की आयु पूरी होने तक अभिभावक को इसमें निरंतर निर्धारित राशि जमा करनी होगी। योजना में बेटी के 18 वर्ष पूरे होने पर वह जमा राशि का 50% और 21 वर्ष पूरे होने पर कुल राशि निकाल सकेगी। योजना के अंतर्गत 1 वर्ष से लेकर 10 वर्ष तक की बालिका का खाता खुलवाया जा सकता है।

BBBP योजना आवेदन हेतु आवश्यक दस्तावेज

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत आवेदन के लिए आवेदक के पास कुछ महत्त्वपूर्ण दस्तावेज होने आवश्यक हैं, जिनके माध्यम से वह योजना में आवेदन की प्रक्रिया को पूरा कर सकेंगे, ऐसे सभी दस्तावजों की जानकारी निम्न हैं :-

  • माता-पिता का आधारकार्ड
  • पैनकार्ड
  • माता-पिता का पहचान पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • कन्या का जन्म प्रमाण पत्र
  • बेटी का आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक खाता पासबुक
  • मोबाइल नंबर

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के उद्देश्य:

1. लड़कियों के अधिकारों की सुरक्षा :- 

                            बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के माध्यम से, सरकार ने लड़कियों के अधिकारों की सुरक्षा करने का प्रयास किया है। इससे लड़कियों को समाज में समानता का माहौल मिलता है और उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

2.  शिक्षित बनाने का प्रोत्साहन :-

                         बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत, सरकार ने लड़कियों को शिक्षित बनाने के लिए प्रोत्साहन दिया है। इससे उन्हें अधिक ज्ञान और जागरूकता होती है और वे अपने भविष्य को समृद्धि से भरते हैं।

3.  समाज में बेटियों के स्थान को सुधारना :-

                        बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के माध्यम से सरकार ने समाज में बेटियों के स्थान को सुधारने का प्रयास किया है। इससे लड़कियों को समाज में एक समान मुद्दा के रूप में देखा जाता है और उन्हें समर्थित किया जाता है।

सारांश :-

                बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना भारतीय समाज के लिए एक एकदिवसीय एवं सुरक्षित भविष्य की ओर एक प्रोत्साहन है। इस योजना के माध्यम से, सरकार ने लड़कियों को समाज में समानता का महत्व समझाया है और उन्हें उनके अधिकारों की सुरक्षा करने का संकल्प लिया है। इससे लड़कियों को आत्मनिर्भरता और सम्मान के साथ जीने का मौका मिलता है और वे देश के विकास में अपना योगदान देने में सक्षम होती हैं।

Leave a Comment